Vitamin C is essential in every season


Vitamin C is essential in every season
Share on

हर मौसम में जरूरी है। विटामिन सी की कमी कैसे पहचानें।

सर्दियों में विटामिन सी की हमें ज्यादा जरूरत होती है। यह सभी को मालूम है। पर क्या गर्मी । में भी हमें इसको नियमित लेते रहना चाहिए। गर्मी में यह नुकसान तो नहीं करता? अकसर घर में बुजुर्ग गर्मी में खट्टी चीजें फोड़े-फुसी के डर से खाने को मना करते हैं।

गर्मी के मौसम में हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता तुलनात्मक रूप से काफी कम हो जाती है। और इसीलिए यही वह वक्त होता है, जब हमें विटामिन सी की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। इसका महत्व बताना कोई नई बात नहीं होगी। यह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को दुरुस्त रखने वाला तो है ही, साथ ही यह एक महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट भी है, जो हमारे विकास और ऊतकों की मरम्मत के लिए बहुत जरूरी है। यह कोलाजेन का निर्माण करता है और आयरन के अवशोषण के लिए भी जरूरी है। आयरन गर्मी के मौसम में होने वाली थकान से लड़ने की ताकत देता है।

कमी कैसे पहचानें

कमजोर रोग प्रतिरोधी क्षमता, कमजोर हड़ियां, संक्रमण, त्वचा की समस्याएं, घावों का देर से भरना, जोड़ों का दर्द, निराशा, थकान, सूजन, मसूड़ों से खून आना, स्कर्वी रोग और एनीमिया इसके आम लक्षण हैं। फिर भी कई लोगों का ध्यान इस पर नहीं जाता। यह भी शायद इसलिए, क्योंकि हमारे ध्यान में इसके एक या दो स्रोत ही रहते हैं। जबकि सचाई यह है कि खट्टे फल (संतरे, नीबू) भले ही विटामिन सी का सबसे आम स्रोत हैं, कई अन्य फल और सब्जियों में भी यह भरपूर मात्रा में पाया जाता है। कुछ में संतरे और नीबू से ज्यादा मात्रा में विटामिन सी मिलता है। अमरूद, आंवला, शिमला मिर्च (पीली, हरी और लाल), पपीता, कीवी, ब्रोकली, लीची, मौसम्मी, स्ट्रॉबेरी, पत्ता गोभी, फूल गोभी, सरसों का साग, टमाटर, आम, अनन्नास, हरी मिर्च, कुछ ऐसे ही फलों-सब्जियों के नाम हैं। इनमें से कम से कम दो चीजें विटामिन सी की भरपूर मात्रा के लिए हर दिन खाएं जरूर।

खाने में ध्यान रखें कुछ बातें

विटामिन सी बहुत ही संवेदनशील पोषक तत्व है, जो हवा, पानी, ताप से बहुत जल्दी प्रभावित होता है। इसलिए बेहतर होता है कि विटामिन सी को बिना पकाए खा सकने योग्य पदार्थों के माध्यम से लिया जाए, क्योंकि ज्यादा देर पकाने या दोबारा गर्म करने से इसकी गुणवत्ता पर असर पड़ता है। इसी तरह सब्जियों को फ्रीजर में रखने पर भी । विटामिन सी की मात्रा प्रभावित हो जाती है।

सप्लीमेंट से नहीं बनेगा काम

अगर आप विटामिन सी.के सप्लीमेंट लेने की सोच रहे हैं तो बता दें कि इसकी गोलियों के माध्यम से हमारे शरीर में इसकी आवश्यकता से। ज्यादा मात्रा पहुंच जाती है, जो मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाती है। इसकी बजाय मेरो सलाह है कि इसके कुदरती माध्यमों को अपने खाने में शामिल करें।